जगन्नाथ पुरी रथ यात्रा: एक प्राचीन और पवित्र परंपरा

Share us

Sri puri Rath yatra

जगन्नाथ पुरी रथ यात्रा, जिसे रथ महोत्सव के नाम से भी जाना जाता है, भारत के ओडिशा के तटीय शहर पुरी में मनाया जाने वाला एक जीवंत और प्राचीन त्योहार है। यह वार्षिक आयोजन भगवान जगन्नाथ (भगवान कृष्ण का एक रूप), उनकी बहन सुभद्रा और उनके बड़े भाई बलभद्र को समर्पित है। इस त्योहार की विशेषता पुरी की सड़कों पर देवताओं को ले जाने वाले विशाल रथों के जुलूस से है।

उत्पत्ति/Origin

रथ यात्रा की उत्पत्ति हज़ारों साल पहले हुई थी, जिसकी जड़ें हिंदू पौराणिक कथाओं और इतिहास में गहराई से समाहित हैं। इस त्योहार से जुड़ी एक लोकप्रिय किंवदंती प्राचीन पुरी के एक महान शासक राजा इंद्रद्युम्न की है। मिथक के अनुसार, राजा इंद्रद्युम्न ने भगवान जगन्नाथ के समुद्र में तैरते हुए लकड़ी के देवता के रूप में प्रकट होने का सपना देखा था। दिव्य निर्देशों से प्रेरित होकर, उन्होंने पवित्र लकड़ी पाई और विश्वकर्मा (आकाशीय वास्तुकार) की मदद से, उन्होंने जगन्नाथ, बलभद्र और सुभद्रा की मूर्तियाँ बनाईं।

प्रतीकवाद और महत्व

रथ यात्रा का हिंदू परंपरा में गहरा महत्व है। यह देवताओं के मंदिर से गुंडिचा मंदिर तक की यात्रा का प्रतीक है, जो पुरी में कुछ दूरी पर स्थित है। माना जाता है कि यह यात्रा भगवान कृष्ण की गोकुल से मथुरा तक की यात्रा की याद दिलाती है। यह एकता और समानता का भी प्रतीक है, क्योंकि सभी क्षेत्रों के लोग जाति, पंथ या धर्म की परवाह किए बिना विशाल रथों को खींचने के लिए एक साथ आते हैं।

अनुष्ठान और उत्सव

रथ यात्रा की तैयारियाँ हफ्तों पहले से शुरू हो जाती हैं। हर साल नए सिरे से बनाए जाने वाले रथों को चमकीले रंगों, पारंपरिक रूपांकनों और प्रतीकात्मक डिज़ाइनों से सजाया जाता है। तीन मुख्य रथ प्रत्येक देवता को समर्पित हैं: नंदीघोष (जगन्नाथ का रथ), तलध्वज (बलभद्र का रथ), और दर्पदलन (सुभद्रा का रथ)। यात्रा के दिन, हजारों भक्त जुलूस देखने और रथों की रस्सियों को खींचकर आशीर्वाद लेने के लिए इकट्ठा होते हैं।

वैश्विक प्रभाव

सदियों से, जगन्नाथ पुरी रथ यात्रा ने अपनी क्षेत्रीय जड़ों को पार कर लिया है और वैश्विक मान्यता प्राप्त कर ली है। इसी तरह की रथ यात्राएँ अब दुनिया भर के प्रमुख शहरों में आयोजित की जाती हैं, जहाँ भारतीय प्रवासी और स्थानीय समुदाय एकता और भक्ति की भावना का जश्न मनाते हैं।

rath yatra puri
Puri rath yatra source google

जगन्नाथ पुरी रथ यात्रा भारत की समृद्ध सांस्कृतिक ताने-बाने और भक्ति की स्थायी भावना का प्रमाण है। यह केवल एक त्यौहार नहीं है, बल्कि आस्था, एकता और परंपरा की जीवंत अभिव्यक्ति है जो दुनिया भर में लाखों लोगों के दिलों को लुभाती है।

सार रूप में, रथ यात्रा आध्यात्मिकता, समुदाय और आत्मा की दिव्यता की ओर शाश्वत यात्रा का उत्सव है।


Share us

Leave a comment

Buy traffic for your website